Monday, 30 April 2018

क्यों बन जाऊं मैं बुद्ध

हो जाता मैं बुद्ध
पर मुझे ज्ञान है
उस सत्य का जिसे
खोज नहीं पाए बुद्ध।
जब एक घर का पिता
चला जाता है तो, घर
कैसे बीमार हो जाता है
कैसे कमर झुक जाती है
यौवन में ही पुत्र की।
जब अपने कर्तव्यों को
छोड़ अपूर्ण पलायन करे
कितने स्वप्न मृत होते है।
सत्य धरती के जान के
कैसे मैं बन जाऊं बुद्ध
क्यों ढूंढ लाऊँ परासत्य
क्यों बन जाऊं मैं बुद्ध।

No comments:

Post a Comment