Saturday, 9 September 2017

पच्चीस बरस बाद दोस्तों से पुनर्मिलन पर

Meeting that took place at sultanpur UP classmates from all over world came to attend reunion
मिट्टी में कुछ तो बात होती है
वरना कहाँ सारी दुनिया की
इस तरा मुलाकात होती है

उड़ गये थे जो परिंदे
लौट आए हैं, बरबस
सच है राह परिंदों को
घर की याद होती है

बरस सिमट कर
खो जाते हैं, जाने कहाँ
जब भी मेरी इन दोस्तों से
कहीं भी कोई बात होती है

No comments:

Post a Comment